Skip to main content

Posts

Showing posts with the label india

Ad

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुद्ध पूर्णिमा पर राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं LIVE देखिये || 7 May 2020

PM Narendra Modi Live PM Modi addresses Vesak Global Celebrations via video conferencing. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुद्ध पूर्णिमा पर राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं LIVE देखिये || 7 May 2020 आप सभी को और विश्वभर में फैले भगवान बुद्ध के अनुयायियों को बुद्ध पूर्णिमा की और बैसाख उत्सव की बहुत-बहुत शुभकामनाएं। ये मेरा सौभाग्य है कि मुझे पहले ही इस पवित्र दिन पर आपसे मिलने, आपसभी से आशीर्वाद लेने का अवसर मिलता रहा है, 2015 और 2018 में दिल्ली में और साल 2017 में कोलंबों में मुझे इस कार्यक्रम से जुड़ने का, आपके बीच आने का मौका मिला। इस बार परिस्थितियां कुछ अलग हैं, इसलिए आमने-सामने आकर आपसे मुलाकात नहीं हो पा रही है भगवान बुद्ध का वचन है- मनो पुब्बम् गम: थम्म: मनो सेट्टा, मनो मया यानी धम्म मन से ही होता है, मन ही प्रधान है। सारी प्रवृत्तियों का अगवा है, लुम्बिनी, बोधगया, सारनाथ और कुशीनगर के अलावा श्रीलंका के श्री अनुराधापुर स्तूप और वास्कडुवा मंदिर में हो रहे समारोहों का इस तरह एकीकरण बहुत ही सुंदर है।   हर जगह हो रहे पूजा कार्यक्रमों का ऑनलाइन प्रसार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का राष्ट्र को संबोधन पढ़िए - 14 April 2020 Samachar

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का राष्ट्र को संबोधन पढ़िए - 14 April 2020 Samachar 14 अप्रैल को भारतवर्ष के नाम प्रधानमंत्री मोदी जी का सन्देश ! PM Modi addresses the nation on the issues related to COVID-19 and existing lockdown. #IndiaFightsCorona कोरोना वैश्विक महामारी के खिलाफ भारत की लड़ाई बहुत मजबूती के साथ आगे बढ़ रही है। आप सभी देशवासियों की तपस्या, आपके त्याग की वजह से भारत अब तक, कोरोना से होने वाले नुकसान को काफी हद तक टालने में सफल रहा है, आप लोगों ने कष्ट सहकर भी अपने देश को बचाया है।  हमारे भारतवर्ष को बचाया है। मैं जानता हूं, आपको कितनी दिक्कते आई हैं। किसी को खाने की परेशानी, किसी को आने-जाने की परेशानी, कोई घर-परिवार से दूर है, आप देश की खातिर, एक अनुशासित सिपाही की तरह अपने कर्तव्य निभा रहे हैं। मैं आप सभी को आदरपूर्वक नमन करता हूं। हमारे संविधान में जिस We the People of India की शक्ति की बात कही गई है, वो यही तो है, बाबा साहेब डॉक्टर भीम राव आंबेडकर की जन्म जयंती पर हम भारत के लोगों की तरफ से अपनी सामूहिक शक्ति का ये प्रदर्शन, ये

SSC 2020 Live Update: SSC Phase 8, 1355 New Jobs | एसएससी फेज आठ की निकली भर्तियाँ !

Official Notification - Direct Download Link * Online Applications are invited from eligible candidates for the Selection Posts indicated in Annexure- III of this Notice. Only those Applications which are successfully filled through the Website of the Commission and found in order shall be accepted. Candidates should go through the Recruitment Notice carefully before applying for the post and ensure that they fulfill all the eligibility conditions like Age-Limit/ Essential Qualifications (EQs)/ Experience/ Category, etc. as indicated in this Notice. Candidature of candidates not meeting the eligibility conditions will be cancelled at any stage of the recruitment process without any notice. Candidature of Applicants shall be purely PROVISIONAL at all stages of the recruitment process. 1.1.All information relating to this recruitment right from the status of application upto the nomination of the selected candidates to the User Department including call letters for the

फ्रांस से प्रधानमंत्री मोदी का लाइव भाषण - PM Modi Live From France | #ModiInFrance

            जब मैं 4 साल पहले फ्रांस आया था, तो हजारों की संख्या में भारतीयों से संवाद का अवसर मिला था। मुझे याद है, तब मैंने आपसे एक वादा किया था। मैंने कहा था कि भारत आशाओं और आकांक्षाओं के नए सफर पर निकलने वाला है, आज जब आपके बीच आया हूं तो कह सकता हूं कि हम न सिर्फ उस सफर पर निकल पड़े, बल्कि 130 करोड़ भारतवासियों के सामूहिक प्रयासों से भारत तेज़ गति से विकास के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है। यही कारण है कि इस बार फिर देशवासियों ने अधिक प्रचंड जनादेश देकर हमारी सरकार को समर्थन दिया है, ये जनादेश सिर्फ एक सरकार चलाने के लिए नहीं, बल्कि नए भारत के निर्माण के लिए है। ऐसा नया भारत जिसकी समृद्ध सभ्यता और संस्कृति पर पूरे विश्व को गर्व हो, और जो 21वीं सदी को Lead करे। ऐसा नया भारत जिसका focus Ease of Doing Business पर हो और जो Ease of Living भी सुनिश्चित करे, पूरी दुनिया में, एक तय समय में सबसे ज्यादा बैंक अकाउंट अगर किसी देश में खुले हैं, तो वो भारत है। पूरी दुनिया की अगर आज सबसे बड़ी हेल्थ एश्योरेंस स्कीम किसी देश में चल रही है, तो वो भारत है, ये भी सच है कि पिछले पांच सालों में

लखनऊ में अखिलेश ने किया भारत और वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों का स्वागत |

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने भारत और वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों के आज लखनऊ आगमन पर उनका स्वागत एवं अभिनंदन किया है। कल समाजवादी सरकार के कार्यकाल में निर्मित इकाना इंटरनेशनल स्टेडियम में दोनों टीमों के बीच रोमांचक मैच होगा। श्री यादव ने कहा कि लखनऊ अपनी तहजीब और मेहमान नवाजी के लिए मशहूर है इसलिए उम्मीद है कि दोनों टीमों के बीच मैच सद्भावपूर्ण वातावरण में स्वस्थ स्पर्धा की भावना से खेला जाएगा और खिलाड़ियों को लखनऊ का म ाहौल पसंद आएगा। श्री यादव ने कहा कि राजधानी लखनऊ में सन् 1994 में भारत-श्रीलंका के बीच क्रिकेट टेस्ट मैच श्री केडी सिंह बाबू स्टेडियम में खेला गया था। तब से 24 साल बाद अब लखनऊ में अंतर्राष्ट्रीय स्तर का मैच होने जा रहा है। विश्वस्तरीय इकाना स्टेडियम सभी आधुनिकतम खेल सुविधाओं से लैस है। समाजवादी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता एवं पूर्व कैबिनेटमंत्री श्री राजेन्द्र चैधरी ने कहा है कि भाजपा की कृतघ्नता की हद तो यह है कि राजनीतिक सामान्य शिष्टाचार निभाते हुए भी अखिलेश जी के प्रति आभार तक व्यक्त नहीं किया जबकि यह विश

Punya Prasun Bajpai का ऑनलाइन Master Stroke - 71 बरस बाद भी क्यों लगते हैं, "हमें चाहिए आजादी" के नारे

71 बरस बाद भी क्यों लगते हैं, "हमें चाहिए आजादी" के नारे ------------------------------------------------------------------- आजादी के 71 बरस पूरे होंगे और इस दौर में भी कोई ये कहे , हमें चाहिये आजादी । या फिर कोई पूछे, कितनी है आजादी। या फिर कानून का राज है कि नहीं। या फिर भीडतंत्र ही न्यायिक तंत्र हो जाए। और संविधान की शपथ लेकर देश के सर्वोच्च संवैधानिक पदो में बैठी सत्ता कहे भीडतंत्र की जिम्मेदारी हमारी कहा वह तो अलग अलग राज्यों में संविधान की शपथ लेकर चल रही सरकारों की है। यानी संवैधानिक पदों पर बैठे लोग भी भीड़ का ही हिस्सा लगे। संवैधानिक संस्थायें बेमानी लगने लगे और राजनीतिक सत्ता की सबकुछ हो जाये । तो कोई भी परिभाषा या सभी परिभाषा मिलकर जिस आजादी का जिक्र आजादी के 71 बरस में हो रहा है क्या वह डराने वाली है या एक ऐसी उन्मुक्त्ता है जिसे लोकतंत्र का नाम दिया जा सकता है। और लोकतंत्र चुनावी सियासत की मुठ्ठी में कुछ इस तरह कैद हो चुका है, जिस आवाम को 71 बरस पहले आजादी मिली वही अवाम अब अपने एक वोट के आसरे दुनिया के सबसे बडे लोकतांत्रिक देश में खुद को आजाद मानने का जश्न

Ad