Skip to main content

Posts

Showing posts with the label politics

Ad

चुनव नतीजे आने के 2 दिन बाद ही मोदी सरकार ने फिर बढ़ाये पेट्रोल के दाम।

Increase in Petrol Prices After 2 Days Of Election results चुनाव नतीजों को आये अभी २ दिन ही हुए हैं की मोदी सरकार ने वापस से पेट्रोल के दाम बढ़ा दिए हैं | दिल्ली में ३ अक्टूबर को एक लीटर पेट्रोल की कीमत रिकॉर्ड ८३ रुपये थी. तेल कंपनियों ने दिल्ली में पेट्रोल के दाम 9 पैसे  प्रति लीटर बढ़ा दिए हैं इसके साथ ही पेट्रोल के दाम ७० रुपये २९ पैसे पर पहुँच गया है. डीजल की दामों में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की गयी है, ध्यान रहे विगत २ महीनों से पेट्रोल के दाम या तो घटे थे या तो स्थिर थे लेकिन अब इनके दामों में इजाफा हुआ है With the #Assemblyelections over, the government has increased the petrol prices on Thursday by a maximum of 30 paise per litre. In Delhi, it was up by 9 paise at ₹70.29 and Mumbai it rose to ₹75.91 #petrolpricehike. चुनाव खत्म होते ही तेल और तेली ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया.. https://t.co/Nsxqnz1Uw8 — Alka Lamba (@LambaAlka) December 13, 2018

लखनऊ में अखिलेश ने किया भारत और वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों का स्वागत |

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने भारत और वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों के आज लखनऊ आगमन पर उनका स्वागत एवं अभिनंदन किया है। कल समाजवादी सरकार के कार्यकाल में निर्मित इकाना इंटरनेशनल स्टेडियम में दोनों टीमों के बीच रोमांचक मैच होगा। श्री यादव ने कहा कि लखनऊ अपनी तहजीब और मेहमान नवाजी के लिए मशहूर है इसलिए उम्मीद है कि दोनों टीमों के बीच मैच सद्भावपूर्ण वातावरण में स्वस्थ स्पर्धा की भावना से खेला जाएगा और खिलाड़ियों को लखनऊ का म ाहौल पसंद आएगा। श्री यादव ने कहा कि राजधानी लखनऊ में सन् 1994 में भारत-श्रीलंका के बीच क्रिकेट टेस्ट मैच श्री केडी सिंह बाबू स्टेडियम में खेला गया था। तब से 24 साल बाद अब लखनऊ में अंतर्राष्ट्रीय स्तर का मैच होने जा रहा है। विश्वस्तरीय इकाना स्टेडियम सभी आधुनिकतम खेल सुविधाओं से लैस है। समाजवादी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता एवं पूर्व कैबिनेटमंत्री श्री राजेन्द्र चैधरी ने कहा है कि भाजपा की कृतघ्नता की हद तो यह है कि राजनीतिक सामान्य शिष्टाचार निभाते हुए भी अखिलेश जी के प्रति आभार तक व्यक्त नहीं किया जबकि यह विश

परम पूज्य 108 आचार्य विद्या सागर जी महाराज और अखिलेश जी ने कन्नड भाषा में विचार विमर्श किया।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने खजुराहो में दसवीं सदी के जैन मंदिर में प्रवास कर रहे परम पूज्य 108 आचार्य विद्या सागर जी महाराज से भेंट की। आचार्य जी और अखिलेश जी ने कन्नड भाषा में विचार विमर्श किया। आचार्य जी ने श्री अखिलेश यादव को जीवन में सफलता का आशीर्वाद दिया। इस अवसर पर उ0प्र0 सरकार के पूर्व मंत्री श्री राजेन्द्र चौधरी और श्री निशांत जैन भी मौजूद थे।  आचार्य श्री विद्या सागर जी महाराज ने कहा हमारे देश में जनभाषा हिन ्दी है। इसका प्रयोग न्यायालय, सरकारी कामकाज और शिक्षा में भी होना चाहिए। जैन मुनि जी ने कहा कि अंग्रेजी के चलते स्वदेशी का बहुत नुकसान हुआ है। अखिलेश जी ने कहा कि चीन के सामान से बाजार पट गए हैं। अब स्वदेशी के आन्दोलन का कहीं अता पता नही है।  आचार्य जैन मुनि ने बताया कि स्वदेशी को बल देने के लिए उनके अपने उत्पादन भी हैं। उन्होंने गांवों के कारीगर द्वारा निर्मित अपने हथकरघा वस्त्र भेंट किए। आचार्य जी ने बताया कि उनके संरक्षण में 100 गौशालाएं हैं। गाय का दूध और घी लाभकारी होता है। इस पर अखिलेश जी ने बताया कि

Punya Prasun Bajpai का ऑनलाइन Master Stroke - 71 बरस बाद भी क्यों लगते हैं, "हमें चाहिए आजादी" के नारे

71 बरस बाद भी क्यों लगते हैं, "हमें चाहिए आजादी" के नारे ------------------------------------------------------------------- आजादी के 71 बरस पूरे होंगे और इस दौर में भी कोई ये कहे , हमें चाहिये आजादी । या फिर कोई पूछे, कितनी है आजादी। या फिर कानून का राज है कि नहीं। या फिर भीडतंत्र ही न्यायिक तंत्र हो जाए। और संविधान की शपथ लेकर देश के सर्वोच्च संवैधानिक पदो में बैठी सत्ता कहे भीडतंत्र की जिम्मेदारी हमारी कहा वह तो अलग अलग राज्यों में संविधान की शपथ लेकर चल रही सरकारों की है। यानी संवैधानिक पदों पर बैठे लोग भी भीड़ का ही हिस्सा लगे। संवैधानिक संस्थायें बेमानी लगने लगे और राजनीतिक सत्ता की सबकुछ हो जाये । तो कोई भी परिभाषा या सभी परिभाषा मिलकर जिस आजादी का जिक्र आजादी के 71 बरस में हो रहा है क्या वह डराने वाली है या एक ऐसी उन्मुक्त्ता है जिसे लोकतंत्र का नाम दिया जा सकता है। और लोकतंत्र चुनावी सियासत की मुठ्ठी में कुछ इस तरह कैद हो चुका है, जिस आवाम को 71 बरस पहले आजादी मिली वही अवाम अब अपने एक वोट के आसरे दुनिया के सबसे बडे लोकतांत्रिक देश में खुद को आजाद मानने का जश्न

चुनाव सिर पर आ गए हैं अब किसानों की हितेषी न बनें भाजपा - अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि चुनाव सिर पर आ गए हैं तो भाजपा किसानों का हितैषी होने का दिखावा करने लगी है। किसानों के उत्पादों के लिए घोषित ताजा न्यूनतम समर्थन मूल्य से किसान को कुछ मिलने वाला नहीं है क्योंकि उसकी अर्थनीति किसान पक्षधर नहीं, कारपोरेट घरानों के हित साधन की है। न्यूनतम समर्थन मूल्य में डेढ़ गुना जोड़ने का जो दावा किया है वह भाजपा की दोषपूर्ण आर्थिक नीति को साबित करता है। पहले ही डाॅ0 स्वामीनाथन रिपोर्ट की  संस्तुतियों से भाजपा मुकर गई थी और अब किसानों के समर्थन का ढोंग कर रही है। भाजपा राज में किसान की सबसे ज्यादा दुर्दशा है। उसके साथ न्याय नहीं हो रहा है। उसकी जमीन कर्ज में फंसी है, कृषि मण्डियों में किसान लुट रहा है, सिंचाई का संकट है। विद्युत आपूर्ति बाधित है, किसान निराशा और कुण्ठा में आत्महत्या कर रहा है। भाजपा का अन्नदाता को ही धोखा देने में कोई गुरेज नहीं है। केन्द्र में भाजपा सरकार का अंतिम वर्ष है, किसानों को लाभ पहुंचाने का ख्याल उसे अब तक क्यों नहीं आया था? अपने जन्मकाल से ही भाजपा का किसान और खेत

Ad